Friday, August 19, 2022

1-35 विहार कुण्ड जनकपुर नेपाल


विवाह के पश्चात् चारों दुल्हा, दुल्हिन यहां आमोद-प्रमोद के लिए आये थे। चारों ने यहां जल-क्रीड़ा की थी इसलिए आज भी इस कुण्ड का नाम विहार कुण्ड है।


वा.रा. 1/70, 71, 72, 73 पूरे अध्याय, मानस 1/212/4,1/286/3 से 1/288/2, 3, 4, 1/313/3, 1/319 छंद 1/321/छन्द, 1/322/4 से 1/324/छ-4

विहार कुण्ड से पंथ पाकड़ सीता मढ़ीः- देवरीटौना – चकनी – गोपालपुर – जुझार पट्टी – सीतामढ़ी। राष्ट्रीय राजमार्ग 104, 39 कि.मी.।

Sharing is caring!

Leave a Reply

Your email address will not be published.