Thursday, April 2, 2020

1 Shri Ram Janmabumi Ayodhyaji Uttar Pradesh Bharat

You are watching image of Shri Ram Janmabhumi Temple in Ayodhya. This picture depicts the status after 1992. Very soon new temple construction is going to be started as Prime Minister Narendra Modi on 5th February 2020 told the Lok Sabha that the Cabinet had approved a scheme for the construction of a grand Ram […]

Read more

2- 17 त्रिवेणी संगम प्रयागराज उत्तरप्रदेश

तीर्थराज प्रयाग की महिमा अनन्त मानी गयी है । सभी युगों में तीर्थराज विद्यमान रहते हैं । त्रेतायुग में श्रीराम ने स्वयं श्रीमुख से तीर्थराज प्रयाग (संगम) की प्रशंसा की है। यहाँ भारत वर्ष की तीन पावन नदियों गंगा, यमुना तथा सरस्वती का संगम है। वा.रा. 2/54/2, 6, 8, मानस 2/104/1 से 2/105/3

Read more

2-18 भरद्वाज आश्रम प्रयागराज उत्तर प्रदेश

इलाहाबाद में एक टीले पर यह आश्रम स्थित है। पहले गंगा माँ की धारा यहाँ से होकर बहती थी। श्रीराम भरद्वाज मिलन इसी स्थान पर हुआ था। ग्रंथ उल्लेख वा.रा. 2/54/5 से 43 2/55/1 से 11,  मानस 2/105/4 से 2/108 दोहा।

Read more

2- 19 अक्षयवट प्रयागराज उत्तर प्रदेश

माँ सीता ने अक्षयवट की पूजा व परिक्रमा की थी। अक्षय का अर्थ है जिसका क्षय (नाश) नहीं होता। ग्रंथ उल्लेख मानस 2/104/4 आगे का मार्ग अक्षयवट से यमुना घाट जलालपुरः- इलाहाबाद-किला-एम.जी.रोड- जलालपुर राष्ट्रीय राजमार्ग 2 से 12 कि.मी.

Read more

2-30 कामद गिरि चित्रकूट उत्तर प्रदेश

भक्त कामदगिरि को श्रीराम का प्रत्यक्ष शरीर मानते हैं। श्रीराम यहाँ बहुत दिनों तक रहे थे। हजारांे श्रद्धालु नित्यप्रति इसकी परिक्रमा करते हैं। कुछ तो लेट कर परिक्रमा करते हैं। चित्रकूट में श्रीराम वनवास से संबंधित बहुत से स्थल आज भी पाये जाते हैं। जैसे श्रीराम-भरत मिलन मंदिर, रामघाट, सीता रसोई, रामशैया, मंदाकिनी नदी आदि। […]

Read more

2-209 श्रीराम मंदिर अयोध्यापटटनम सेलम तमिलनाडु

लोक कथा के अनुसार श्रीराम जब लंका से अयोध्या वापिस जा रहे थे तो स्थानीय नागरिकों ने यहाँ उनका पट्टाभिषेक किया था। किन्तु यह तर्कसंगत नहीं लगता। विद्वानों की राय में श्रीराम लंका अभियान में ही यहाँ से गये थे। यह स्थल जाने के मार्ग पर ही आता है।

Read more

2-218 कल्याण राम मंदिर मिमिसाइल पोदुकोटई तमिलनाडु

तमिल में कल्याण का अर्थ है विवाह। एक कथा के अनुसार मिमिसाइल में यहाँ के ऋषियों ने श्रीराम से माँग की थी कि वे विवाह का दृश्य देखना चाहते थे। इस मंदिर में श्रीसीतारामजी के विवाह के दृश्य हैं।

Read more

2-232 धनुषकोटि रामेश्वरम रामनाथपुरम तमिलनाडु

श्रीराम ने विभीषण केे अनुरोध पर धनुष की नोक से पुल तोड़ दिया था। वह स्थान आज भी धनुषकोटि के नाम से प्रसिद्ध है। वा.रा. 6/123/19, 20 मानस 6/1/2 से 6/2/3

Read more

2-233 चक्रतीर्थ अनागुंडी ( हम्पी )

तुंगभद्रा नदी यहाँ धनुषाकार घुमाव लेती है। इसे चक्रतीर्थ कहा जाता है। जब श्रीराम पुष्पक विमान से अयोध्या जा रहे थे तब मां सीता के आग्रह पर विमान यहां उतारा था। बाद में सुग्रीव ने यहां कोदण्ड राम मंदिर बनवाया था।

Read more