Friday, June 5, 2020

2- 17 त्रिवेणी संगम प्रयागराज उत्तरप्रदेश


तीर्थराज प्रयाग की महिमा अनन्त मानी गयी है । सभी युगों में तीर्थराज विद्यमान रहते हैं । त्रेतायुग में श्रीराम ने स्वयं श्रीमुख से तीर्थराज प्रयाग (संगम) की प्रशंसा की है। यहाँ भारत वर्ष की तीन पावन नदियों गंगा, यमुना तथा सरस्वती का संगम है।

वा.रा. 2/54/2, 6, 8, मानस 2/104/1 से 2/105/3

Sharing is caring!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *