Tuesday, April 7, 2020

1 Shri Ram Janmabumi Ayodhyaji Uttar Pradesh Bharat

You are watching image of Shri Ram Janmabhumi Temple in Ayodhya. This picture depicts the status after 1992. Very soon new temple construction is going to be started as Prime Minister Narendra Modi on 5th February 2020 told the Lok Sabha that the Cabinet had approved a scheme for the construction of a grand Ram […]

Read more

1- 2 मखौड़ा धाम अयोध्या

ये है मखौड़ा धाम । अयोध्या नरेश दशरथ जी ने श्रृंगी ऋषि के निर्देशन में पुत्रेष्टि यज्ञ यहीं किया था । मनोरमा नदी के तट पर अवस्थित यह तीर्थ आजa भी प्रख्यात है । संतान प्राप्ति की कामना से लोग आज भी यहां बड़ी संख्या में मनौती मांगने के लिये आते हैं ।

Read more

1-4 भैरव मंदिर

ये है भैरव मंदिर तीर्थ । यह तीर्थ उत्तर प्रदेश के आज़मगढ़ जिले में सरयू नदी के तट पर महाराजगंज में अवस्थित है । विश्वामित्र मुनि के साथ उनके आश्रम की रक्षा के लिये साथ चल रहे भगवान राम के साथ भैया लखन लाल इस मंदिर के निकट से आगे बढ़े थे । ये बड़ा […]

Read more

1-5 सलोना ताल

अजमतगढ़ के पास पुरानी सरयू के किनारे एक अत्यन्त विशाल तालाब है जिसमें अब भी बड़ी मात्रा में जल रहता है। यह सरयू का पेटा कहा जाता है। लोक विश्वास के अनुसार मुनि विश्वामित्र इसी मार्ग से राम, लक्ष्मण जी को लेकर गये थे

Read more

1-6 बारदुअरिया मंदिर

बारदुवारिया मंदिर यह स्थान रामघाट मऊ के निकट ही है। यहाँ पुरानी सरयू तथा टोंस नदी का संगम है। यहाँ भगवान शिव का 12 द्वारों का एक बहुत प्राचीन मंदिर है। आज भी यहाँ कार्तिक पूर्णिमा को एक बड़ा मेला लगता है। लोक मान्यता के अनुसार विश्वामित्र मुनि श्रीराम लक्ष्मण को इसी मार्ग से ले […]

Read more

1-7 राम घाट मऊ

रामघाट मऊ मऊ के निकट पुरानी सरयू के किनारे रामघाट है। माना जाता है कि यहाँ श्रीराम ने सरयू में स्नान किया था तथा वे विश्वामित्र मुनि के साथ इसी मार्ग से आश्रम गये थे। आज भी दूर-दूर से जनता यहाँ स्नान व मनौतियां माँगने आती हंै। ग्रंथ उल्लेख वा.रा. 1/22/11 से 24 तक। मानस […]

Read more

1-8 सिदागर घाट

सिदागर घाट का नाम भारत वर्ष में सिद्धों की परंपरा से जुड़ा हुआ है । सिदागर शब्द सिद्धगण का अपभ्रंश माना जाता है। वाल्मीकि रामायण के अनुसार सरयू नदी के किनारे ऋषि मण्डल रहते थे। संभवतः यह वही स्थान है, यहाँ प्राचीन रामघाट है। लोक मान्यता के अनुसार विश्वामित्र मुनि इसी मार्ग से गये थे। […]

Read more

1-9 लखनेश्वर डीह

श्री राम यात्रा पथ खोज में निश्चित रूप से अधिक स्थानों के नाम राम जी अथवा सीताजी से संबंधित मिलते हैं । पर यथास्थान भैया लखन लाल की स्मृति से संबंधित तीर्थ भी प्राप्त हुए हैं । सिदागर घाट से आगे बढ़ने पर उत्तर प्रदेश के बलिया जिले में लखनेश्वर डीह तीर्थ इसका प्रमाण है […]

Read more

1-10 राम घाट नगहर

श्री राम की यात्रा में नदी तट पर अवस्थित तीर्थ बड़ी संख्या में हैं । ऐसा इसलिये कि प्राचीन काल में अधिकांश यात्रायें नदी तट के निकट से होकर ही आगे बढ़ती थीं । नदियों के किनारे किनारे चलने से स्थान की पहचान याद रखना आसान था तथा यात्रा क्रम में जल की प्रचुरता बनी […]

Read more

1-11 कामेश्वरनाथ कारोधाम

कारोधाम में अवस्थित कामेश्वर मंदिर अत्यंत प्राचीन तीर्थ है । अयोध्या से अपने आश्रम की ओर बढ़ते हुए मुनि विश्वामित्र जी ने श्रीराम को बताया था कि भगवान शिव ने कामदेव को यहां भस्म किया था। आज भी यहां शिव मंदिर तथा तालाब है। माना जाता है कि यहां भगवान शिव ने तपस्या की थी। […]

Read more