Thursday, August 18, 2022

2-73 सीतामढ़ी कनवाई अनूप पुर मध्य प्रदेश


सीतामढ़ी कनवाई जनकपुर से 50 कि.मी. दूर बरनी नदी के किनारे श्री सीता राम जी ने एक रात्रि यहाँ विश्राम किया था। यहीं देवांगनाएं उनके दर्शनार्थ आयीं थीं। यहाँ तीनों की पूजा होती है।

श्री रामचरित मानस के अनुसार श्रीसीता राम जी सुतीक्षण मुनि आश्रम से सीधे अगस्त्य मुनि के आश्रम (अगस्त्येश्वर मंदिर) गये। अतः वहाँ तक मानस से कोई संदर्भ नहीं मिलते। गोस्वामी जी द्वारा वर्णित सकल मुनि (मा.3/9 दोहा) दण्डक वन में थे। उनकी चर्चा जन श्रुतियों के आधार पर ही करेंगे। क्योंकि उन सकल मुनियों के नाम, ग्राम, आश्रम आदि का कोई वर्णन नहीं दिया है। हां जन श्रुतियांें में वे आश्रम आज भी जीवंत है तथा उनके सभी स्थलों पर अवषेष तथा लोक कथाएँ मिलती हंै।रामायण के अरण्य काण्ड के 8,9,10 अध्यायों के अनुसार श्रीराम सुतीक्ष्ण आश्रम से प्रस्थान करते हैं। मार्ग में राक्षसों के वध संबधी प्रतिज्ञा पर मां सीता  से श्रीराम चर्चा करते हैं। इन अध्यायों में केवल यही चर्चा हैं। मार्ग का कोई संकेत नहीं है। इन दस वर्षांे में प्रथम संकेत पंचाप्सर का मिलता है।

संकेत के रूप में वा.रा. 3/11/21 से 28 तक देखें।

सीतामढ़ी कनुआई से राम मंदिर सूरजपुरः-केल्हारी – दरसिला – बिल्हाकुरी – कोलमी – तराइडोल – विजहा टोला – देवगवां – बिजुरी – पथरौली – डोला – दोमनपार – दगौरा – लाइ – बरक्सपुर – विस्नुपुर – सर्गी – बैकुण्ठपुर। एस. एच 3 से 140 कि.मी.

Sharing is caring!

Leave a Reply

Your email address will not be published.