Saturday, December 5, 2020

2-195 चिन्तामणि अनागुंडी कोपल कर्नाटक


तुंगभद्रा नदी यहाँ धनुषाकार घुमाव लेती है। नदी के एक ओर बाली-सुग्रीव का युद्ध हुआ था तथा दूसरे किनारे पर वृक्षों की ओट से श्रीराम ने बाली को बाण मारा था। यहां श्रीराम के चरण चिह्न हैं।

वा.रा. 4/12/14 से 42, 4/14 पूरा अध्याय, 4/16/14 से 4/25/54 मानस 4/6/13 से 4/10/4

Sharing is caring!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *