Friday, August 19, 2022

1-38 वेदी वन पूर्वी चंपारण बिहार


मिथिला में लोक परम्परा के अनुसार विवाह के चैथे दिन वेदी बना कर पुनः विवाह की परम्परा है। आज भी इसे चैथाड़ी कहा जाता है। चैथाड़ी के बाद ही विवाह संस्कार पूर्ण माना जाता है। यहां चैथाड़ी की वेदी बनी थी। इसलिए गांव का नाम भी वेदी वन है।

निकटवर्ती गांवों के नाम भी इस घटना की पुष्टि करते हैं।

वा.रा. 1/69/7 मानस 1/303/3, 1/342/4 से 1/343/4 तक

वेदीवन से डेरवाः- मधुवन बेदीवन  रामगढ़ – पिपरा कोठी – रतनपुर – कोटवा – बेलवामाधो – सेमुआपुर – बिश्रामपुर दुधौलिया – माधौपुर – सुपौली – कल्यानपुर मधुबनी – रतनसराई – कहला – तेतहली – विजेहता – सिवान कचहरी – रामपाली – बरौली – बेलवा – नवापार – परसिया तिवारी – डेरवा। राष्ट्रीय राजमार्ग 28-180  कि.मी.।

Sharing is caring!

Leave a Reply

Your email address will not be published.