Monday, December 9, 2019

न्यास द्वारा निर्मित फिल्म एवं सीरियल


श्री राम सांस्कृतिक शोध संस्थान न्यास द्वारा भगवान राम से संबंधित २९० तीर्थों के प्रचार प्रसार के लिये अनेक काम हुए हैं । सबसे पहली फिल्म वनवासी राम के तीर्थ स्थल के रूप में नब्बे के दशक में एक मामूली विडियो कैमरे से डॉ राम अवतार ने स्वयं बनायी थी । इसका प्रदर्शन अनेक स्थानों पर हुआ । पर अब इसकी प्रति उपलब्ध नहीं है ।

इसके बाद ज़ी टेलीफिल्म्स के बैनर वाले धार्मिक टीवी चैनल जी जागरण के सौजन्य से ५२ एपीसोड वाले धारावाहिक जहँ जहँ राम चरण चलि जाहीं का प्रसारण २००६ -२००७ में एक वर्ष तक लगातार चलता रहा । रामानन्द सागर द्वारा निर्मित दूरदर्शन के प्रख्यात धारावाहिक रामायण में श्री राम की भूमिका निभाने वाले प्रसिद्ध अभिनेता अरुण गोविल ने इस धारावाहिक की एंकरिंग की थी । शोधकर्ता डॉ राम अवतार प्रत्येक एपीसोड में रामजी की ऐतिहासिक लीला भूमि के विशेषज्ञ के रूप में जानकारियाँ देते थे ।

न्यास ने वर्ष २०१२ -२०१३ के दौरान एक साथ दो टी वी चैनलों श्रद्धा टीवी और सौभाग्य मिथिला टीवी पर सियाराम चरण सुखदायी के नाम से ७२ एपीसोड वाले धारावाहिक का निर्माण किया । ये कार्यक्रम अपार लोकप्रिय हुआ । इसमें डॉ राम अवतार शोधकर्ता एंकर के रूप में तीर्थ स्थलों की जानकारी देते थे ।

रामजी के तीर्थों के प्रति व्यापक जागरुकता और सम्यक विकास के लिये वर्ष २०१८ -२०१९ में पुनः न्यास ने धारावाहिक निर्माण का फैसला किया । भारते के सबसे अधिक लोकप्रिय धार्मिक टीवी चैनल आस्था पर पुरुषोत्तम मास १० जून २०१८ से प्रत्येक रविवार को रात्रि दस बजे एक नये धारावाहिक जहँ जहँ चरण पड़े रघुवर के प्रसारित हो रहा है ।

अब तक इसके ३१ अंक प्रसारित हो चुके हैं ।

इसके अलावा न्यास ने दो वीडियो फिल्म का निर्माण किया है । रामजी के सभी २९० स्थानों के बारे में संक्षिप्त जानकारी देने वाली फिल्म जहँ जहँ चरण पड़े रघुवर के तथा जहां जहाँ पग धरे राम ने न्यास की ओर से निर्मित हुई है । इसमें से एक फिल्म में सभी स्थानों को छायाचित्रों के माध्यम से दर्शाया गया है जबकि दूसरी फिल्म में चलचित्रों के माध्यम से रामजी के तीर्थों की झांकी दिखायी गयी है ।

ये आलेख उन सभी खंडों में रखा जा रहा है जिनमें समयाभाव में समुचित विवरण नहीं डाले जा सके हैं । आने वाले दिनों में सभी कैटेगोरीज और खंडों में विषय से संबंधित तथ्य उपलब्ध कराये जायेंगे ।

असुविधा के लिये विनम्र क्षमायाचना ।

इस खंड में समुचित जानकारी और तथ्य जल्दी ही रखे जायेंगे ।

Sharing is caring!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *