Monday, December 5, 2022

2 – 82 लेखा पत्थर रेंगले

लेखा पत्थर रंेगले बगीचा से 10 कि.मी. पूर्व दिशा में श्री सीताराम जी ने रात्रि विश्राम किया था। ऊँची चट्टानों पर चित्रलिपि तथा उनके चित्र बनंे हैं। यहाँ श्रीराम, लक्ष्मण, सीता जी तथा भगवान शिव की अनगढ़ी मूर्तियों की पूजा वनवासी करते हैं। श्री रामचरित मानस के अनुसार श्रीसीता राम जी सुतीक्षण मुनि आश्रम से […]

Read more