Monday, December 9, 2019

समूह बाल भजन गायन


हमें अपने बच्चों को संस्कारित करना है तो उन्हें रामजी के जीवन मूल्यों से जोड़ना आवश्यक है । हमारे भावी नौनिहाल जब रामजी की कथा सुनते हैं । हम अभिभावक जब उन्हें रामजी के तीर्थों का दर्शन कराने के लिये श्री राम वन गमन तीर्थों की यात्रा पर ले जाते हैं तो वे घने जंगलों में अवस्थित जन जीवन का प्रत्यक्ष दर्शन करते हैं ।

ऐसे वातावरण में जब बाल मन में रामजी की वन गमन गाथा का उद्देश्य हम उन्हें समझायें तो एक ओर हम उन्हें भारत वर्ष की राष्ट्र संकल्पना और दूसरी ओर अच्छे संस्कार अनायास दे सकेंगे ।

अपने बच्चों को हमें आस पड़ोस के संगीत विद्यालय में भजन सीखने के लिये भेजना चाहिये , विशेष रूप से अपने मर्यादा पुरुष श्री राम और अन्य देवी देवताओं के भजनों के प्रति लगाव बढ़ाना चाहिये ।

संभव हो और यदि हम समर्थ हों तो अपने परिवार के साथ गर्मियों की छुट्टी मेंं या अन्य अवसरों पर रामजी के उन दुर्लभ तीर्थों के दर्शन के लिये जाना चाहिये जो ऐतिहासिक महत्व के साथ पर्यटन की दृष्टि से अत्यंत संुदर हैं । रामजी के पचास से अधिक वनगमन स्थल धार्मिक पर्यटन की दृष्टि से नयनाभिराम और अत्यंत मनोरम हैं ।

अनुकूल मौसम में घने वन में अवस्थित ये तीर्थ हमारे बच्चों के लिये अत्यंत सुंदर पर्यटन स्थल साबित होंगे जो शिक्षा के साथ संस्कार भी देंगे ।

इस समाचार को पढ़ते समय यदि आपके मन में श्री राम वन गमन तीर्थों पर जाने की प्रेरणा होती है तो न्यास से संपर्क करें । हम आपकी सफल यात्रा के प्रबंध में सहायक साबित होंगे ।

यहां बाल समूह गान प्रस्तुत है जो वर्ष २०१२ में भगवान परशुराम धर्माशाला, यमुना विहार में श्री राम सांस्कृतिक शोध संस्थान न्यास द््ृवारा सियाराम चरण सुखदायी टेलीविजन धारावाहिक के लिये रिकार्ड किया गया ।

इस आयोजन के लिये ब्राह्मण समाज यमुना विहार की ओर से सारी व्यवस्था की गयी थी । सभी कलाकार, भजन गायक और अन्य राम भक्त न्यास को सहयोग देने के लिये एकत्रित हुए थे ।

हम सबके आभारी हैं ।

न्यास के सहयोग के लिये ब्राह्मण समाज यमुना विहार की तरह अन्य संस्थाओं को भी आगे आना चाहिये जो इस तरह के कार्यक्रम आयोजन के लिये तत्पर हों ।

न्यास की ओर से संप्रति आस्था टेलीविजन चैनल पर एक धारावाहिक जहँ जहँ चरण पड़े रघुवर के का प्रसारण विगत वर्ष २०१८ के १० जून से प्रत्येक रविवार को रात दस बजे हो रहा है । इस कार्यक्रम के लिये भी हमें नये भजनों की आवश्यकता है ।

रामभक्तों से सहयोग की अपेक्षा है ।

Sharing is caring!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *